जिंदगी

0
58
- Advertisement -

कभी कड़कती धूप तो,
कभी ठंडी छांव है जिंदगी;
कभी कोयल की कूक तो,
कभी कौए की कांव है जिंदगी;
कभी सुहाना सफर तो,
कभी ठहराव है जिंदगी;
कभी नर्म मरहम तो,
कभी सख्त घाव है जिंदगी;
कभी प्रेम मिलाप तो,
कभी अलगाव है जिंदगी !!

प्रिया सिन्हा

- Advertisement -
- Advertisement -