माँ तुम्हारे पास हूँ।

0
242
- Advertisement -

कर्म पथ पर ,हम खड़े रहेंगें माँ,
तूने मुझे जन्म दिया,हमेशा तेरे संग है माँ,
यहाँ वीरान ज़मी है तो क्या,
धूप बरसात बर्फ है तो क्या,
भूखे प्यासे अकेले खड़े हैं तो क्या,
सीने में गोली लगी खून बह रहा तो क्या,
मिट्टी है भारत माँ का,ज़ख्मों में डाल दिया तो क्या,
कर्म पथ पर हम खड़े रहेंगें माँ,
आशीर्वाद आँचल का तेरा साया है माँ,
हम भारत भूमि के वीर है,
हर बार जन्म लेते रहेंगें,
माँ।
जय हिंद, जय भारत।

स्वरचित मौलिक
करुणा सिंह कल्पना
राँची झारखण्ड।

- Advertisement -
- Advertisement -