200 साल पुराना इतिहास , यूपी में मेंढक मंदिर देश के सबसे अनोखे मंदिरों में से एक है!

0
556
- Advertisement -

भारत विविध धर्मों का देश है और हमारे पास विभिन्न देवी-देवताओं के सम्मान में मंदिर हैं। वास्तव में, हमारे पास सांप, चील, चूहे और यहां तक ​​कि कुत्ते जैसे जानवरों के सम्मान में मंदिर भी हैं। तो एक मेंढक को समर्पित मंदिर निश्चित रूप से आश्चर्य के रूप में नहीं आना चाहिए! हां, आपने उसे सही पढ़ा है। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले में ओले शहर में स्थित नर्मदेश्वर मंदिर है, जिसे मेंढक मंदिर के नाम से भी जाना जाता है। और हमने आपको पूजा के इस अनोखे स्थान के बारे में सब कुछ बताने के लिए बहुत खुदाई की!

मंडूक (मेंढक) मंदिर के रूप में भी जाना जाता है, यह देश में अद्वितीय मंदिरों में से एक है और 200 साल पुराना इतिहास रखता है। तंत्र (तांत्रिक प्रथा) के अनुसार, मेंढक समृद्धि, भाग्य और प्रजनन क्षमता का प्रतीक है, इसलिए अनुयायियों के बीच मजबूत विश्वास है। ओएल के शासकों द्वारा निर्मित, यह मंदिर जिस क्षेत्र में स्थित है वह पहले ओल साम्राज्य का हिस्सा था। हालांकि, जो सबसे दिलचस्प है, वह यह है कि यहां के पीठासीन देवता शिव हैं और मेंढक नहीं, यही वजह है कि इस मंदिर को नर्मदेश्वर मंदिर के नाम से जाना जाता है।

- Advertisement -

वैसे, इस मंदिर के पीछे एक बहुत ही दिलचस्प किंवदंती है। बखत सिंह नाम के राजा को एक मेंढक ने आशीर्वाद दिया था जिसके बाद उसका जीवन और उसकी आने वाली पीढ़ियों का जीवन समृद्ध हुआ। यही कारण है कि उस मेंढक की दिव्यता का सम्मान करने के लिए एक मंदिर बनाया गया था। आज भी, राजा बखत सिंह (इस क्षेत्र के शाही परिवार) के वंशज इस तीर्थस्थल के लिए एक विशेष सम्मान रखते हैं और इसके प्रबंधन का एक गढ़ भी है !

जबकि किंवदंती काफी रोचक है लेकिन इस मंदिर का मुख्य आकर्षण इसकी भव्य वास्तुकला है। पूरा ढांचा ऐसा लगता है मानो मेंढक मंदिर को अपनी पीठ पर लादे हुए है। मेंढक के पीछे एक गुंबद के साथ चौकोर आकार में बना शिव का मंदिर है, जो कई फीट ऊंचा है और यहां कदमों से पहुंचा जा सकता है। तांत्रिक विद्या के अनुसार, मंदिर एक यन्त्र (एक अष्टकोणीय कमल) पर बनाया गया है और दीवारों पर तांत्रिक देवताओं और देवी की नक्काशी की गई है! इसलिए यदि आप कभी भी यूपी की यात्रा करते हैं, तो इस शानदार साइट पर जाना सुनिश्चित करें!

- Advertisement -